जिले के विधायक और सांसदों की मांग को देखते हुए ताडोबा में सफारी शुरू

0
264

चंद्रपूर :
विश्व प्रसिद्ध ताडोबा अंधारी व्याघ्र प्रकल्प से निसर्ग पर्यटन (सफारी) नियमित रूप से शुरू किया गया है।
राज्य में कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के आने से मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए ताडोबा सफारी को बंद करने का फैसला गया था।
महाराष्ट्र सरकार राजस्व और वन मंत्रालय, आपदा प्रबंधन, राहत और पुनर्वास मुंबई मंत्रालय देवाशीष चक्रवर्ती प्रमुख सचिव और अध्यक्ष महाराष्ट्र कार्यकारी समिति राज्य आपदा प्रबंधन के आदेश पत्र क्र : DMU / 2020 / CR. 92 / Dis M -1, Date 31-1-2022 को जारी किया गया था।
1 फरवरी 2022 को ताडोबा के बफर झोन में सफारी की शुरुआत की गई  है और ताडोबा कोअर झोन सफारी मंगलवार को बंद होने की वजह से 2 फरवरी 2022 को शुरू की गई है सुबह के सफारी में 9 जिप्सी वाहन और एक खुली बस (कैटर) को मोहर्ली गेट से छोड़ा गया। आज सुबह के सफारी मे सैलानियो को 4 तेंदूए और 5 बाघ (मादा और शावको) का दर्शन हुआ साथ ही अन्य सांबर, चितल, मागरमछ, विभिन्न प्रकार के पंछि भी दिखायी दिए।
बंद पर्यटन अचानक सुरू करने से काफी सैलानी दूसरे पार्क में घूमने चले गए हैं। कहां जाता है की कुछ दिनो तक सैलानीयो की भीड में कमी नजर आने की संभावना है।
आदेश पत्र के अनुसार 90 चरणों में प्रथम डोज वाले जिलों में तथा 70 प्रतिशत दोनों डोज वाले जिलों में चंद्रपुर, कोल्हापुर, गोंदिया, भंडारा, पुणे, मुंबई, सतारा आदि जिले शामिल हैं।
राज्य में इन सभी परियोजनाओं की शुरुआत 1 फरवरी, 2022 को  नियमित समय के अनुसार ऑनलाइन बुकिंग के माध्यम से की गई।
ताडोबा पर निर्भर जिप्सी चालक, मालक, गाईड, सामान्य श्रमिकों, रिसॉर्ट श्रमिकों और मजदूरों आदि के परिवारों की आजीविका की समस्या को हल करने के लिए जिले के विधायक और सांसदों ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मांग की थी । इस पर संज्ञान लेते हुए प्रमुख सचिव ने ताडोबा  शुरू करने का आदेश दिया गया है।

वन्यजीव प्रेमियों, फोटोग्राफर, गाइड, ड्राइवर, जिप्सी चालक मालक, रिसोर्ट मालक, होमस्टे मालक और सामान्य श्रमिकों के चेहरों पर खुशी देखी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here