ग्रामीणों ने मोहर्ली वनपरिक्षेत्र कार्यालय (प्रा) के सामने शवों को रखा वनविभाग के खिलाफ धरना : स्पीड ब्रेकर हटाने की मांग

0
713

ताडोबा-अंधारी व्याघ्र प्रकल्प के बफर झोन पद्मापुर से मोहर्ली मुधोली चंदनखेड़ा मार्ग में 63 स्पीड ब्रेकर लगाने को लेकर विवाद ताजा था ऐसे में आज दिनांक 13 जून मुधोली गांव में एक हादसा हुआ। 16 साल के चेतन बबन जीवतोड़े को सांप ने काट लिया। उसके इलाज के लिए चंद्रपुर के जिला सामान्य अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस रवाना हुई लेकिन हर 400 मीटर पर स्पीड ब्रेकर के वजह से एंबुलेंस की गति बाधाओं के कारण, चेतन गति सीमा तक नहीं पहुंच सका और रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।
ग्रामीणों का आरोप है कि स्पीड ब्रेकर के बाधा के कारण लड़के की जान चली गई । इसलिए स्पीड ब्रेकर का सवाल अब एक बार फिर से सामने आ गया है।

इस इलाके में 15 गांव हैं चंद्रपुर आने जाने के लिए सभी को स्पीड ब्रेकर वाले रोड से ही जाना पड़ता है इसी वजह से पद्मापुर मोहर्ली मुधोली मार्ग के 15 गांव के लोग इस जानलेवा स्पीड ब्रेकर से बहुत पीड़ित हैं।
इस विषय पर 11 जून 2021 को 15 गांवों के सरपंचों ने जिलाधिकारी से मुलाकात की. सांसद बाळू धनोरकर ने इस संबंध में कहा था। इस समय वहां पर भद्रावती वरोरा विधायक प्रतिभा धनोरकर भी मौजूद थीI।
वन विभाग की ओर इस विषय पर कोई हल नहीं निकला है।
चेतन बबन जीवतोड़े को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में उसका इलाज कर चंद्रपुर जिला सामान्य अस्पताल रेफर कर दिया गया। उसे एंबुलेंस में ले जाया गया। लेकिन स्पीड ब्रेकर के कारण वाहन तेज गति से नहीं जा सकी और भामडेळी के गांव पहुंचते ही चेतन जीवतोड़े की मौत हो गई।ग्रामीणों का आरोप है कि स्पीड ब्रेकर को तुरंत निकाला जाए ताकि भविष्य में इस तरह की घटना ना हो।
इस विषय पर बात करने ग्रामीणों ने मोहर्ली वन परिक्षेत्र के कार्यालय (प्रा) के सामने शवों को रखा वनविभाग के खिलाफ धरना : स्पीड ब्रेकर हटाने की मांग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here