जंगल में लापता मानसिक रूप से अस्वस्थ इसम को वनविभाग और ग्रामीणों ने मिलकर जीवनदान दिया

0
162

चंद्रपूर (मोहम्मद सुलेमान बेग): ताडोबा अंधेरी टाइगर रिजर्व के मोहर्ली वन परिक्षेत्र में मानसिक रूप से अस्वस्थ इसम अचानक अपने घर से निकलकर मोहर्ली बफर क्षेत्र के कक्ष क्र. ८७४ में ३१ डिसेंबर २०२२ को तडके मे चला गया।

३१ डिसेंबर २०२२ को जंगल सफारी द्वारान जुनोना बफर के सैलानियो ने उसे पहले कक्ष क्र. ८७४ जंगल मे देखा और इसकी जानकारी वन विभाग को दि गई।
उक्त घटना मे मोहर्ली निवासी राजेश चरणदास मेश्राम उम्र ४८ वर्ष मानसिक रूप से अस्वस्थ है।


३१ दिसंबर २०२२ को जंगल सफारी द्वारान सैलानियो ने देखा और इसकी सूचना जब मोहर्ली वनपरिक्षेत्र अधिकारी संतोष थिपे को दी गई । उन्होंने तुरंत एक टीम गठित की और तलाश जारी किया। ०१ जानेवारी २०२३ को मोहर्ली ग्रामिनो के साथ मिलकर एक बडी टीम बनाकर कक्ष क्र. ८७४ मे तलाश जारी की गई  फिर भी सफलता नाही मिली।
सदर इसम को जूनोना मोहर्ली रोड पर २ जानेवारी को शाम ६ बजे के बीच एक ट्रैक्टर चालक ने देखा और जब वनकर्मी और ग्रामीणों ने बताए हुए जगह की तलाशी की तो वह मिला नहीं।
३ जनवरी २०२३ को जूनोना गाईड व वन कर्मचारी ने लापता राजेश को जूनोना मोहर्ली मार्ग पर पकड़ने में कामयाबी हासिल की।
राजेश को ३ दिनों तक लगातार जंगल में देखा गया लेकिन कोई उसे पकड़ पाता इससे पहले ही वह भाग जाता था।
अंत में जूनोना गाईड व वन कर्मचारी ने  राजेश को चारों तरफ से घेर लिया और पकड़कर उसके परिजनों को सौंप दिया।
3 दिन तक बिना कुछ खाए जंगल में बाघ और ठंड से महफूज रहा।
३ दिन से चल रहे सर्च ऑपरेशन का नेतृत्व वन विभाग के वनपरिक्षेत्र अधिकारी संतोष थिपे ने किया।
उक्त घटना को अंजाम तक ले जाने के लिए
संतोष थिपे, वनरक्षक संजय जुमडे, वन रक्षक सुरेंद्र मंगाम, वनरक्षक आकाश राठौड़, वनरक्षक विखुल जनबंधु , वनकर्मियों और मोहर्ली पोलिस पाटिल रामकृष्ण साखरकर, राजू ढवळे, मोहर्ली ग्रामिन और वनकर्मचारी के सहयोग से तलाश अभियान चलाया गया।
लापता व्यक्ति का पता लगाने के लिए वन विभाग और ग्रामिनो ने दिन रात अभियान चलाकर बड़ी सफलता हासिल की है।
चूंकि उक्त क्षेत्र में बाघ, तेंदुआ और भालू जैसे जंगली जानवर बड़ी संख्या में हैं।
“मारने वाले से बचाने वाला बडा होता है”
यह कहावत सच साबीत होते नजर आ रही है। वन विभाग ने इस बड़ी सफलता हासिल की हर कोई सराहना कर रहा है।  साथ ही लापता राजेश को खोजने में मदद करने के लिए ग्रामीणों ने अपना कीमती समय देकर एकता का संदेश दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here