पीएम मोदी ने व्याघ्र गणना के नतीजों की घोषणा की

0
314

प्रोजेक्ट टाइगर ( Project Tiger) भारत के लिए गौरव का पलः पीएम मोदी 

9 अप्रैल 2023 को प्रोजेक्ट टाइगर के 50 वर्ष पूरे होने के अवसर पर, मैसूर में आयोजित सम्मेलन में पीएम  मोदी ने व्याघ्र गणना के नए आकड़े करीब 11.00 बजे  जारी किए।
इसके साथ ही देश में बाघों की संख्या बढ़कर 3167 हो गई है। इस दौरान पीएम मोदी ने संबोधित करते हुए कहा कि देश में 4 साल में 200 बाघ बढ़े है।
मोदी ने कहा कि जब दुनियाभर में बाघों की आबादी घट रही है, तो भारत में ही क्यों बढ़ रही है। जवाब यह है की भारत के समाज में बायो डायवर्सिटी को लेकर जो हमारा स्वाभाविक आग्रह है वो ही सफलता के अंदर छिपा हुआ है। हम इकोलॉजी और इकोनॉमी में भेद नही मानते, बल्कि दोनों के बीच को एक्जीस्टेेंस को महत्व देते हैं। हमारे यहां टाइगर से जुड़ा हजारों वर्ष पुराना इतिहास है।
प्रोजेक्ट टाइगर भारत के लिए एक गर्व का पल है। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब वह गुजरात में थे, तो उन्होंने शेरों पर काम किया था। उन्होंने यह भी सीखा कि इसके लिए स्थानीय लोगों और जानवरों के बीच एक भावना और आर्थिक रिश्ता होना चाहिए। इसलिए वह गुजरात में वन्यजीव मित्र कार्यक्रम चलाया था। उन्होंने गिर के कार्यक्रम के लिए एक पुनर्वास सेंटर भी खोला था।

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि दशकों पहले चीता विलुप्त हो गया था। हम अफ्रीका से कुनो नेशनल पार्क में चीतों को लेकर आए। कुछ समय पहले 4 सुंदर शावकों का जन्म हुआ था। भारत की धरती से करीब 75 साल पहले चीता विलुप्त हो गया था। 75 साल के अंतराल में इन चीतों ने जन्म लिया है।
बायो डायवर्सिटी के समृृद्धि के लिए विदेशी स्तर पर कॉर्डिनेशन करना भी अहम रहा।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें मिलकर इन विलुप्त जातियों के उत्थान के लिए काम करना है। यह दायित्व हम सभी का है, पूरे विश्व का है। इसी भावना को हम अपनी जी-20 अध्यक्षता के दौरान निरंतर प्रोत्साहित भी कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि जी 20 का उद्देश्य वन फैमिली, वन नेचर का संदेश देता है। हमने अपने महत्वाकांक्षी लक्ष्य तय किए हैं। मुझे विश्वास है कि आपसी सहयोग से पर्यावरणीय लक्ष्य को प्राप्त करेंगे।

#pojecttiger #tigercencus #pmmodi #tigercount results #tigersinindia3167 #tigerreserve #ntcareport

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here