ताडोबा का प्रसिद्ध ब्लैकी मेटिंग करते पाया गया

0
1618

चंद्रपूर (मोहम्मद सुलेमान बेग):
भारत के उपोष्णकटिबंधीय वनों में पाया जाने वाला लेपर्ड में कुछ में मेनेलिज्म पाया जाता है  मेनेलिज्म एक नेचरल फिनोमिना और बहुत ही दुर्लभ है। जो की त्वचा में एक्स्ट्रा मेनेलिन के पाए जाने से होता है। मेनेलिज्म से इन लेपर्ड का ऊपरी त्वचा का रंग गहरा काला दिखाई देने लगता है।
कर्नाटक का काबिनी टाइगर रिजर्व ब्लैक लेपर्ड के लिए प्रसिद्ध है।महाराष्ट्र मे पहली बार आलापल्ली मे ब्लैकी पाया गया था। उसके बाद ताडोबा-अंधारी टाइगर रिजर्व में  सन 2019 में मेनेलिज्म लेपर्ड जो अब ब्लैकी के नाम से जाना जाता है उसे  सैलानियों ने कोलसा रेंज में शिवानझरी में वाटर बॉडी के पास दिखा गया था।
फिर उसके बाद ताडोबा रेंज में काफी बार दिखाई दिया है। हाल ही में बहुत ही रोचक दृश्य देखा गया जिसमें नर ब्लैकी मादा सामान्य लेपर्ड  के साथ प्रसंग (mating) करते देखा और सैलानियों ने इस रोचक दृश्य को अपने कैमरे में कैद किया। जो सोशल मिडिया मे वायरल हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here