मामा तालाब में जहर डालकर किया नीलगाय का शिकार, 16 बकरियां भी मर गई

0
921

तलोधी (बा) : यश कायरकर,
ब्रम्हपुरी- वन विभाग अंतर्गत तालोधी बालापुर वन परीक्षेत्र और सिंदेवाही वन क्षेत्र के से सटे हुए सायगांव मामा तालाब में शिकारियों द्वारा जहर डालकर एक नील गाय की शिकार की गई । जिसमें पानी पीने आई बकरियों में से 16 बकरी भी मर गई तलोदी वन परिक्षेत्र के आलेवाही बिट से सटे सायगांव में गट क्रमांक 547, मामा तालाब में रात को पलसगांव (जाट)के शिकारियों द्वारा पानी में जोर डाला गया जिसमें तालाब पर पानी पीने आयी नीलगाय मर गई जिसके बाद आरोपियों ने सुबह उसका आधा भाग काट पलसगांव निवासी आरोपियों ने गांव में ले जाकर बेच दिया और उसके तुरंत बाद फिर से नीलगाय के बचे हुए अवशेष काटने तालाब पर आए उसी समय मामा तालाब पर कुछ बकरियां चरवाहों द्वारा पानी पीने के लिए लाई गई उसमें से कुछ बकरियां पानी पीकर लड़खड़ा कर गिरने लगी जैसे ही चरवाहों के ध्यान में यह बात आई उन्होंने बाकी बकरियों को तालाब पर पानी नहीं पीने दिया मगर फिर भी तब तक 16 बकरियां मर चुकी थी उसके तुरंत बाद चरवाहों ने वहां उपस्थित नीलगाय काट रहे शिकारियों को धर दबोचा और तुरंत वन विभाग और पुलिस को सूचित किया सूचना मिलते ही तलोधी वन विभाग के आज ही नियुक्त हुए वन परीक्षेत्र अधिकारी के. आर. धोंडने, acf आर.एम.वाकडे , वन क्षेत्र सहायक श्री कार्तीक गरमडे, प्रशांत गायकवाड वनरक्षक आलेवाही, सचीन चौधरी वनरक्षक देवपायली, श्री नन्नावरे वनरक्षक डोंगरगांव, देवेंद्र उईके वन चौकीदार, वनमजूर सोमेश्वर निकुरे ये मोक्केपर पहुंचे
आरोपी निकेश संपत नन्नावरे, 37, प्रविन भैयाजी धनविजय 23 अन्ना ऋषि बनकर 55 आरोपी पलसगांव (जाट) निवासी इनको वन विभाग ने अपने कब्जे में लिया और एक आरोपी फरार बताया जा रहा है वन विभाग द्वारा मौका पंचनामा कर मौके पर ही शव विच्छेदन कर नीलगाय और बकरियों को जला दिया गया शव विच्छेदन नीलगाय का नागभीड के डॉक्टर गिरीश गिरीश गभने, डॉक्टर पशुधन विकास अधिकारी पंचायत समिति सिंदेवाही डॉ.यस .यस. गव्हारे, डॉ.व्हीबी सुरपाम, वाय एस वाघरे पशुधन पर्यवेक्षक इन्होंने शव विच्छेदन किया. बकरियों के मालिकों द्वारा तलोदी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की गई जिसके आधार पर तलोदी पुलिस और वन विभाग आगे की जाँच कर रही है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here