तेंदुए की हत्या: अवैध वन्यजीव के व्यापार होने का शक

0
315

केरल

मंकुलम के पास वीरपारा में एक तेंदुए को फंसाने और उसे मारने वाले गिरोह पर अवैध वन्यजीवों के व्यापार में लिप्त एक अंतर्राज्यीय गिरोह के साथ करीबी संबंध होने का संदेह है।
वन अधिकारियों ने तेंदुए को फंसाने और मारने के आरोप में शुक्रवार को पांच लोगों को गिरफ्तार किया। उनमे मंकुलम निवासी विनोद, कुरीकोज, बीनू, साली और विंसेंट हैं।
वन अधिकारियों का कहना है कि उनका मकसद उसकी त्वचा, नाखून, हड्डियां बेचना था ।

मांकुलम रेंज अधिकारी वी.बी. उदयसोयोरन ने कहा कि गिरोह ने पहले जानवरों का शिकार किया होगा और यह स्पष्ट था कि तेंदुआ मांस के लिए नहीं फंसा था।

आरोपी के घर से छह साल के तेंदुए की त्वचा, नाखून और हड्डियां भी जब्त कीं, जहां आरोपी ने खाना बनाया था और खाया था। कहा जाता है आरोपी ने केवल स्वाद चखने के लिए मांस का एक छोटा हिस्सा पकाया था। वन ऑफिसर के अनुसार आरोपी के घर 10 किलो मांस बरामत हुआ है।
जांघ दौरान यह पता चला कि मांस खाने के लिए केवल शिकार नही किया हैं । तेंदुए का शिकार करने का मकसद उसकी त्वचा, नाखून और हड्डियां बेचना था।
आभूषणों की दुकानों में तेंदुए के नाखूनों और दांतों की मांग होती है क्योंकि इनका उपयोग लॉकेट में किया जाता है।
वन अधिकारियों का कहना है आरोपियों की जांच जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here